चार्टर्ड अकाउंटेंसी भारत में लोकप्रिय कर रही है विकल्पों में से एक है।

चार्टर्ड अकाउंटेंट का पद एक काफी ज्यादा सम्मानजनक पद माना जाता है।

इस पेशे में प्रवेश करना काफी आसान नहीं होता है जो कि भारत के सबसे कठिन परीक्षाओं में से शामिल।

क्योंकि मैं विश्वास करता हूं कि चीजों को सरल और वास्तविक रखना काफी ज्यादा अच्छा होता है तो इसी वजह से इस पोस्ट की शुरुआत मुझे कठोर रूप से करनी पड़ी।

चार्टर्ड एकाउंटेंट बनाना काफी कठिन होता है इसी कारणवश इस पद का काफी ज्यादा सम्मान और यह सैलरी भी होती है।

अगर आप करता है कि आप मेहनत और दृढ़ विश्वास रखते हैं तो चलिए इस करियरगाइड की ओर बढ़ते हैं।

BPED Ka Full Form.BPEd क्या है कैसे करे

चार्टर्ड अकाउंटेंसी क्या है?

इसमें वित्तीय खातों का प्रबंधन बजट लेखा परीक्षा व्यापार रणनीति और काला धन शामिल है।

चार्टर्ड अकाउंटेंट वित्तीय सलाह प्रदान करते हैं तथा वित्त का प्रबंधन करते हैं यह किसी कंपनी तथा निजी तौर पर भी प्रदान किया जा सकता है।

क्योंकि हर व्यवसाय में पैसे का लेनदेन होता है और हर कंपनी को अपने मित्र चीजों को लेखा-जोखा रखना होता तो वहां पर चार्टर्ड अकाउंटेंट की मुख्य भूमिका आती है।

एक चार्टर्ड एकाउंटेंट के रूप में, आप निम्नलिखित क्षेत्रों में काम कर सकते हैं:

1.व्यवसाय और उद्योग

2.चार्टर्ड एकाउंटेंट फर्म

3.परामर्श फर्म

4.संस्थानों

5.पूंजी बाजार सेवाएं

6.वित्तीय संस्थानों

7.स्वतंत्र अभ्यास

ऊपर वर्णित क्षेत्रों में चार्टर्ड एकाउंटेंट हमेशा उच्च मांग में होते हैं।

आप या तो किसी व्यवसाय या संगठन के लिए काम कर सकते हैं और उनके खातों, वित्त, कराधान या ऑडिटिंग को प्रबंधित करने में मदद कर सकते हैं।

आप स्वतंत्र रूप से भी काम कर सकते हैं और अपनी सेवाओं की पेशकश किसी को भी कर सकते हैंजो इसे चाहता है।

डिमांड फॉर चार्टर्ड एकाउंटेंट

चार्टर्ड एकाउंटेंट की मांग टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार, 2018 के अप्रैल में, भारत में केवल 2.82 लाख •सीए थे और जिनमें से केवल 1.25 लाख पूर्णकालिक अभ्यास में थे। इसका मतलब है कि कुल सीए में से केवल 44% ही सक्रिय रूप से काम कर रहे थे। इस तथ्य को देखते हुए कि भारत में 6.8 करोड़ करदाता हैं और हर साल अधिक व्यवसाय D स्थापित हो रहे हैं, सीए की मांग पहले से कहीं अधिक है।

क्वालीफिकेशन फॉर चार्टर्ड अकाउंटेंसी

12वीं कक्षा पास करने के बाद छात्र छात्रों के लिए सीए की पढ़ाई के रास्ते खुल जाते हैं इसके बाद आप एंट्रेंस एग्जाम दे सकते हैं। यदि आपका इंटरेस्ट सीए बनने का है तो आप किसी भी स्ट्रीम है तो आप इसका प्रवेश परीक्षा दे कर सीए की पढ़ाई कर सकते है।

  • 12th कंप्लीट करने के बाद आपको सीपीटी एग्जाम देना होता है।
  • कल कक्षा में कम से कम 50 परसेंट मार्क्स प्राप्त होने चाहिए।
  • लेकिन अगर आप ग्रेजुएशन के बाद सीए करना चाहते हैं तो आपके ग्रेजुएशन में 60% मार्क्स होने चाहिए।

सीए प्रवेश परीक्षा (CA Entrance Exam)

CA की परीक्षा इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (the institute of chartered accountants of India) द्वारा आयोजित किया जाता है आपको तीन प्रकार की परीक्षाओं को पास करना होता है तब जाकर आप सीए कोर्स में एडमिशन प्राप्त कर सकते हैं यह परीक्षाएं अनिवार्य होती हैं।

  1. CPT
  2. IPCC
  3. Final Exam

1. CPT

CPT- common proficiency test

यह एक एंट्री लेवल का एग्जाम होता है इस इस परीक्षा को आप 12वीं क्लास के बाद दे सकते हैं।

CPT Exam syllabus

CPT का पाठ्यक्रम दो भागों में बांटा गया है भाग 1 और 2। आज एक और भाग दो कुछ इस प्रकार से

Section 1Section 2
Fundamentals of Accounting (60 Mark)
Mercentile laws ( 40 Marks)
General economics(50 marks)
Quantitative Aptitude (50 Marks)
Total Marks – 100Total Marks-100
CPT exam syllabus

2. IPCC Exam

यह एग्जाम दूसरे लेवल का एग्जाम होता है जिसका पूरा नाम इंटीग्रेटेड प्रोफेशनल कॉम्पिटेंसी (integrated professional competence course) है।

इस परीक्षा का पंजीकरण आपको CPT पास करने के बाद पंजीकरण कराना है।

यह मुख्यता दो ग्रुप में विभाजित होता है जिसमें आपको 8 पेपर देने होते हैं।

IPCC Group 1 syllabus

इस ग्रुप में आपको 4 पेपर देने होते हैं

paper 1 Accounting(100 Marks)
Paper 2Business laws, Company law, ethics and communication (100 Marks)
Paper 3Cost and Management Accounting (100 Marks)
Paper 4Taxation(100 Marks)
IPCC Group 1

IPCC group 2

यह एग्जाम आप आर्टिकल ट्रेनिंग के दौरान या आर्टिकल ट्रेनिंग के बाद में कर सकते हैं इसमें आपको 4 पेपर पास करने होते हैं

Paper 4Advanced Accounting
Paper 6Auditing and Assurance
Paper 7Information technology and strategic management
Paper 8Financial Managemen t and Economics for finance
IPCC group 2

CA Final Exam

जब आप आईपीसीसी के सभी एग्जाम पास कर लेते हैं तो उम्मीदवार उसके बाद फाइनल परीक्षा में आवेदन कर सकते हैं।

ध्यान दें जब आप फाइनल एग्जाम देंगे तो इससे पहले आपको 3 साल तक की प्रैक्टिस के लिए अप्रेंटिस ट्रेनिंग करनी होती है।

पेपर पास करने के बाद आपको आईसीएआई का मेंबर चुना जाता है।

Final Exam syllabus

Paper 1financial reporting and accounting
Paper 2finance and financial
Paper 3finance and financial management
Paper 4advanced auditing and professional ethics
Paper 5corporate laws and Allied laws
Paper 6information system control and audit
Paper 7direct tax laws
Paper 8Indirect tax laws
Final Exam syllabus

CA Course Fees

उम्मीदवार को फाउंडेशन कोर्स के लिए ₹9200 की फीस जमा करनी होती है

उसके बाद इंटरमीडिएट कोर्स के लिए 18000 फीस जमा करनी होती और फिर फाइनल लेवल पर ₹22000 तक की फीस जमा करनी पड़ती है इसके साथ ही रजिस्ट्रेशन फीस भी 1500 तक की होती है।

सरकारी कॉलेजों में कंप्लीट सीए कोर्स की फीस 200000 से 500000 तक होती है।

CA Job profiles

  • लेखांकन और वित्त पोषण
  • कराधान सलाहकार
  • लेखा लिपिक
  • Internal auditing
  • टैक्स ऑडिटिंग
  • Chief finance officer (CFO)
  • Chief executive officer (CEO)
  • लागत लेखाकार (cost accountants)
  • व्यापार सेवाएं लेखाकार

इसके अलावा आप अपनी फाइनेंसियल सर्विस बना सकते हैं और क्लाइंट को दे सकते हैं।

CA Salary in India

  • Accounts clerk (2,50,00-5,00,000 INR)
  • Forensic auditing (3,00,00-6,00,000 INR)
  • CFO-(5,00,000-15 lakh or above)
  • Taxation /internal advisory(3,50,500-5,50,00 INR)

ध्यान दें यह सभी वेतन अनुमानित वेतन है।

Best colleges for CA in India

  • लोयला कॉलेज
  • Hindu College University New Delhi
  • मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज चेन्नई
  • Stella Maris College
  • Lady Shri Ram College for women

निष्कर्ष

आज के इस पोस्ट में हमने जाना कि सीए क्या है और यह किस तरह से किया जाता है। सीए बनने के बाद से वेतन क्या होगा और सीए के लिए बेस्ट कॉलेजेस इन इंडिया।

उम्मीद करते हैं आपको यह लेख पसंद आया होगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.