नमस्कार दोस्तों आप सभी का स्वागत है अगर आप दिल्ली में पढ़ते है या आप दिल्ली के स्कूल्ज में एडमिशन लेने वाले है तो आपके लिए एक नयी खुसखबरी है। दिल्ली सरकार ने अपना खुद का शिक्षा बोर्ड का निर्माण किया है।
दिल्ली गवर्नमेंट ने वर्ष 2020 में भी एक सरकारी यूनिवर्सिटी(DSEU) बनायीं थी। DSEU सफल यूनिवर्सिटी बनी।
यदि आप नई यूनिवर्सिटी के बारे में विस्तार से जानकारी चाहते है तो आप इस लिंक पर क्लिक करे। हमने यूनिवर्सिटी के लिए अलग से लेख बना रखा है।

संस्थाDBSE
फुल फॉर्मDelhi Board of School Education (DBSE)
स्थापना19 March 2022

दिल्ली सरकार ने मार्च 2022 को बजट पेश करते हुए नए शिक्षा बोर्ड की जानकारी दी।
वर्ष 2021-2022 दौरान 25 स्कूल इस नए बोर्ड के अधीन होंगे।आने वाले वर्षो में फिर दिल्ली के सभी सरकारी-1000 व 11700 प्राइवेट स्कूल्ज भी इस नए बोर्ड का हिस्सा होंगे।

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, सरकार ने अलग राज्य शिक्षा बोर्ड की स्थापना के लिए 62 करोड़ रुपये अलग रखे हैं।

नए बोर्ड की अध्यक्षता शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया करेंगे और इसका संचालन एक संचालन समिति द्वारा किया जाएगा। रिपोर्ट के अनुसार, इसके दैनिक कार्यों की देखरेख एक सीईओ के नेतृत्व में एक कार्यकारी समिति करेगी।

केजरीवाल के मुताबिक, सरकारी स्कूलों को डीबीएसई से जोड़ने का फैसला प्राचार्यों, शिक्षकों और अभिभावकों के साथ बैठक के बाद किया जाएगा।

योजना के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी के निजी स्कूलों को डीबीएसई में शामिल होने का अवसर मिलेगा।

DBSE Motive

दिल्ली सरकार ने नयी एजुकेशन बोर्ड के तीन मुख्य उद्श्ये बातये है :

  • देश भक्त
  • अच्छे लोग
  • रोजगार के लिए आत्मनिर्भर छात्र


देश भक्त: देश भक्ति का नया कार्यक्रम स्कूल में जोड़ा जायेगा जिससे स्टूडेंट्स में देश भक्ति बढ़ेगी और वो एक ” कटटर देश भक्त बन पाएंगे “


अच्छे लोग : अच्छे इंसानो व अच्छे चरित्र का निर्माण करना।

आपने व हम सभी ने सरकारी कर्मचारियो को कभी न कभी रिस्वत लेते देखा जरूर होगा या फिर आपने किसी को रसिवत देते देखा या सुना जरूर होगा। व आपने समाज में कुछ ऐसे कोगो के बारे में जरूर सुआ होगा जो अपना काम जिम्मेदारीपूर्ण नहीं करते और व कार्य हमारे समाज के लिए काफी बेकार साबित होता है। यह सब एक अच्छे व्यक्ति की निसानी विल्कुल भी नहीं है।
यदि बचपन से ही किसी वयक्ति को मोरल के बारे में सिखया जाए या फिर उसे अच्छा इंसान कैसे बनना है तो सिड वह बड़ा होने के बाद ऐसी हरको को काम कर सकता है या फिर इन्हे समाज से पूरा ख़त्म कर सकता है।

रोजगार के लिए आत्मनिर्भर छात्र
स्टूडेंट्स को ऐसी शिक्षा प्रदान करना जो रोजगार पर आश्रित न हो और खुद का रोजगार विकसित करे सके।

तो आपने यह नए उद्द्श्ये तो जान लिए अब जानते है की किस प्रकार दिल्ली सर्कार इन लक्ष्यों को हासिल करेंगी।
वैसे दिल्ली सर्कार का कहना है की व इन लक्ष्यों के प्राप्ति के लिए हाई एन्ड टेक्निक्स का उपयोग किया जायेगा। पुराने पाठ्यकर्म का पुनः निर्माण किया जायेगा और पुराने पाठ्यकर्म को आज के बदलते दौर के हिसाब से बदला जायेगा। स्टूडेंट्स को प्रैक्टिकल जानकारी अधिक दी जाएगी। इसके साथ ही वर्ल्ड सैंडर्ड की शिक्षा प्रदान की जाएगी। यह नया बोर्ड अपने शिक्षक व विधायथियो के लिए करिकुलम वर्ल्ड स्टैण्डर्ड के अनुसार डिज़ाइन कर रहा है।
शुरुआत के समय में इस नए बोर्ड के अंतर्गत स्कूल शामिल है।

यह नया बोर्ड अभी पूरी तरह से कार्यत में नहीं हुहा है लेकिन अप्रैल के बाद से दिल्ली सरकार के सरकारी विद्यालों में इस बोर्ड के तहत सत्र शुरू होंगे

FAQs

D.B.S.E क्या है ?

दिल्ली सरकार का एक नया एजुकेशन बोर्ड है।

क्या C.B.S.E बोर्ड अब दिल्ली में नहीं है ?

इस वर्ष दिल्ली के अंतर्गंत दो एजुकेशन बोर्ड ( CBSE & DBSE ) कार्यत होंगे।

क्या DBSE बोर्ड की शिक्षा पद्धति CBSE बोर्ड से अलग होगी ?

जी है जैसा की ने कहा है कई माइनो में DBSE बोर्ड, CBSE बोर्ड से काफी अलग होगा।

DBSE

Delhi Board of School Education

Leave a Reply

Your email address will not be published.