“Psychologist Kaise bane ?”

नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है हमारी वेबसाइट “हिंदी में जाने” पर।आज का लेख काफ़ी दिलचस्प होने वाला है क्योंकि आज के लेख में करियर के एक नए क्षेत्र के बारे में बात करने वाले है।

आज के लेख में हम एक करियर के ऐसे नए क्षेत्र के बारे में बात करेंगे जिसके बारे काफी कम छात्रों को पता होता है और यदि इस के बारे में जानकारी भी होती है लेकिन कम जानकारी होती है। इस लेख में आज हम PYSCHOLOGY में करियर के बारे में बात करेंगे।
इस से जुड़े हुए लेख आपने पढ़े होंगे लेकिन यह लेख बाकी लेखो से अलग होने वाला है क्योकि इस लेख में आपके सभी सवालो के जवाब भी उपलब्ध होंगे ,और इसके साथ ही इसमें अधिक जानकारी भी प्रदान की जाएगी।

अगर आपको लगता है की आपके सवाल का जबाब नहीं मिला है तो आप हमें कमेंट सेक्शन में बता सकते है।

आपने मनोविज्ञान के बारे में फिल्मो में जरूर देखा होगा जिसमे किसी वयक्ति को मानसिक समस्या होती है और उसका समाधान करने वाले वयक्ति को मनोवैज्ञानिक कहते है।

क्या आपका सपना भी एक मनोवैज्ञानिक बनने का है ?
यदि हां तो यह लेख आपके लिए काफी लाभदयक साबित होगा। क्या आपको पता है की आप एक कैसे बनेगे ? यदि नहीं तो घबारिये नहीं यह लेख इसलिए बनाया गया है ताकि आपको सटीक जानकारी प्रदान की जा सके।

PSYCHOLOGY क्या है ?

अमेरिकन साइकोलॉजिकल एसोसिएशन(APA) के अनुसार, मनोविज्ञान मन और व्यवहार का वैज्ञानिक अध्ययन है।मनोविज्ञान के अंतर्गत मानव विकास, स्वास्थ्य, खेल, , नैदानिक, सामाजिक व्यवहार और संज्ञानात्मक प्रक्रियाएं मनोविज्ञान के कई उपक्षेत्रों में से कुछ हैं जिनका अध्ययन किया जा सकता है।

PSYCHOLOGIST कौन होता है ?

एक मनोवैज्ञानिक एक पेशेवर है जो मन और व्यवहार के अध्ययन में माहिर होता है।
जो लोग: मानसिक रोगों का इलाज करने जैसी समस्याओं के समाधान के लिए मनोवैज्ञानिक समझ और शोध को लागू करते हैं, उन्हें मनोरोगी कहा जाता है।

साइकोलॉजिस्ट कीआवश्यकता क्यों है?

मनोविज्ञान उचित निर्णय लेने व तनावपूर्ण स्थितियों से बचने और क्रोध को प्रभावित प्रभावित करने में मदद करता है।
मनोविज्ञान से समय प्रबंधन में सुधार , और लक्ष्य को प्रभावी ढंग से प्राप्त करने में भी मदद करता है
मनोविज्ञान ने कई लोगों को मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य से संबंधित समस्याओं को सामने लाने में मदद की है
मनोविज्ञान की मदद से मनुष्य को कई नई चीजें सिखाई जा सकती हैं वह ठीक करी जा सकती हैं जैसे संबंध बनाना करियर का महत्व और कई आवश्यक मूल्य।
सामाजिक वैज्ञानिकों के रूप में शैक्षणिक संस्थानों में मनोवैज्ञानिक अनुसंधान और शिक्षण का संचालन करना।
Importance of PSYCHOLOGIST

पिछले दो दशकों में साइकोलॉजी व मानसिक स्वास्थ्य को जरूरी समझा जाने लगा हैं । सभी बड़ी-बड़ी कंपनियां अपने कार्य करने वाला वर्करों के मानसिक तनाव को ध्यान में रखते हैं उन्हें उनके लिए अच्छा बनाते हैं ।

अब आपने के बारे में आधारभूत जानकारी प्राप्त कर ली है। आपके मन में सवाल जरूर आ रहा होगा की Pyschologist कैसे बनेगे ?

साइकोलॉजिस्ट कैसे बने? (Psychologist Kaise bane)

किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12th कक्षा पास करनी होगी उसके बाद आपको मनोविज्ञान में एक डिग्री प्राप्त करनी होती है। डिग्री वर्ष की होती है। जिसे आप अपने राज्यों के अनुसार उपलब्ध प्राइवेट व सरकारी यूनिवर्सिटीज से कर सकते है।
डिग्री प्राप्त करने के बाद आपको मनोविज्ञान में ही किसी एक विषय में विशेषज्ञता प्राप्त करे। उसके बाद आप इंटेर्नशिप्स करे और जब आपकी इंटर्नशिप पूरी हो जाए तो आप एक अच्छे मनोवैज्ञानिक बन जाते है।
आप इंटर्नशिप डिग्री करते समय भी करे या फिर किसी समाजसेवी संसथान से जुड़ सकते है जिससे आपको अधिक व्यावहारिक जानकारी होगी।
पोस्ट ग्रेजुएशन के लास्ट वर्ष में आप इंटर्नशिप कर सकते है या फिर पोस्ट ग्रदुतिओं पूरी होने के बाद , यह आप पर निर्भर होगा।

डिग्री के दौरान ही आप अपनी स्पेशलाइजेशन चुन सकते हैं आप उसी स्पेशलाइजेशन के अंतर्गत आप अपनी एमडी या फिर पोस्ट ग्रेजुएशन कर सकते हैं।साइकोलॉजी में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए आप तो पीएचडी या M.Phill कर सकते हैं।

साइकोलॉजिस्ट(Psychologist) के प्रकार

साइकोलॉजी काफी ज्यादा बड़ा क्षेत्र है तथा इसे कई कैटेगरी में विभाजित किया गया है।

  • क्लिनिकल साइकोलॉजी।
  • कंज्यूरिंग काउंसलिंग साइकोलॉजी।
  • एजुकेशनल साइकोलॉजी।
  • डेवलपमेंट साइकोलॉजी।
  • फॉरेंसिक साइकोलॉजी।
  • न्यूरोसाइकोलॉजी।।

मनोविज्ञान में विशेषज्ञता

मनोविज्ञान में अच्छा करियर बनने के लिए आपको जरूरी होता है की आप मनोविज्ञान के किसी विषय में विशेषज्ञताप्राप्त करे। डिग्री पूरी करते समय ही आपको ध्यान देना होता है की आप किस विषय में अधिक रूचि है और अपने अनुसार विशेषज्ञता को चुने।
आप मनोविज्ञान में निम्न में विशेषज्ञता चुन सकते है।

तो चलिए जानते हैं कि साइकोलॉजी में कितने स्पेशलाइजेशन होते हैं।

क्लीनिकल साइकोलॉजी
फॉरेंसिक साइकोलॉजी
स्कूल साइकोलॉजी
एजुकेशनल साइकोलॉजी
एजुकेयर हेल्थ साइकोलॉजी
कंज्यूमर बिहेवियर
एनवायरमेंटल साइकोलॉजी
पॉजिटिव साइकोलॉजी
काउंसलिंग साइकोलॉजी
रिहैबिलिटेशन साइकोलॉजीनन
PSYCHOLOGIST SPECILIZATIONS

साइकोलॉजी में कोर्सेज( Courses in Psychology)

बैचलर कोर्सेज 3 वर्षीय कार्यक्रम (Bacholer Courses )

  • बीएससी इन साइकोलॉजी।
  • बैचलर ऑफ आर्ट्स इन साइकोलॉजी
  • बीए ऑनर्स इन साइकोलॉजी

मास्टर कोर्सेज 2 वर्षीय कार्यक्रम (Masters Courses )

  • मास्टर ऑफ आर्ट्स इन साइकोलॉजी
  • मास्टर ऑफ आर्ट्स इन अप्लाइड साइकोलॉजी
  • मास्टर ऑफ आर्ट्स इन काउंसलिंग साइकोलॉजी
  • एमएससी इन साइकोलॉजी

डाक्टरल कोर्स

  • डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी इन साइकोलॉजी
  • एम फिल इन साइकोलॉजी

साइकोलॉजी कोर्स फीस

साइकोलॉजी कोर्स की फीस सामान्यत 5,000 रुपए से लेकर 95,000 रुपए तक होती है ।। यहाँ पर आपको एक अनुमानित फीस बता रहा हु यह फीस आपके राज्य व यूनिवर्सिटी के अनुसार कम या ज्यादा हो सकती है।। सरकारी कॉलेज में फीस कम होती है। आप मनोविज्ञान में ग्रेजुएशन कर रहे है या पोस्ट ग्रेजुएशन पर निर्भर होता है की आपकी फीस कितनी होगी।

साइकोलॉजी में टॉप कॉलेजेस

वैसे तो भारत में काफी सारे साइकोलॉजी कोर्स करवाने के लिए संस्थान मौजूद है जिनमें से आप अपने राज्यों तथा शहरों में ढूंढ सकते हैं लेकिन मैं आपको कुछ ऐसे संस्थानों व कॉलेजों के नाम बताना चाहूंगा जो भारत के सबसे प्रसिद्ध कॉलेज में से एक है।

  • लेडी श्री राम कॉलेज न्यू दिल्ली।
  • स्टीफन जेवियर्स कॉलेज मुंबई।
  • जैसी सन मैरी कॉलेज न्यू दिल्ली।
  • कमला नेहरू कॉलेज दिल्ली
  • बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी
  • अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी
  • टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस

मनोवैज्ञानिक के लिए आवश्यक कौशल (Skills)

गुड कम्युनिकेशन स्किल्स: जैसा की आप सभी को पता है कि साइकोलॉजिस्ट लोगों के विभिन्न प्रकार की समस्याओं का समाधान प्रदान करते है तथा इसके चलते एक साइकोलॉजिस्ट की कम्युनिकेशन स्किल्स काफी अच्छी होनी चाहिए.

एनालिटिक माइंड तथा इसके साथ-साथ उसे धैर्यवान भी होना आवशयक है। आपने गुस्से को अपने ऊपर हावी नहीं होने देना चाहिए।

साइकोलॉजी में स्कोप

भारत में मनोविज्ञान का एक उभरता हुआ करियर क्षेत्र है, जिसमें कई छात्र मनोवैज्ञानिक, मार्गदर्शन परामर्शदाता, नैदानिक मनोवैज्ञानिक, आदि के रूप में नौकरियों का पता लगाने के लिए इस विशेषज्ञता को चुनते हैं।

साइकोलॉजी में कोर्स करने के बाद आप अपनी खुद की कंसल्टेन्सी शुरू कर सकते है या फिर आप निम्न संस्थानों में कार्य कर सकते है।

  • सरकारी संस्था ने।
  • नर्सिंग होम
  • रिहैबिलिटेशन सेंटर।
  • मैनेजमेंट इन कंसलटिंग कंपनीज।
  • सोशल सर्विस ग्रुप।
  • एजुकेशनल ऑर्गेनाइजेशन में।
  • हॉस्पिटल और क्लिनिक्स।।

साइकोलॉजिस्ट सैलेरी

यह सेक्शन का इंतजार आपको बेसब्री से होगा। शुरुआती समय में 2.40 लाख प्रति वर्ष से लेकर 3.72 लाख रुपए प्रति वर्ष तक वेतन होता है।

यह वेतन आपकी एक्सपीरियंस के अनुसार बढ़ता है और जब आप किसी एक क्षेत्र में स्पेशलाइजेशन/ एक्सपर्टीज प्राप्त कर लेते हैं तो आपकी सैलरी भी बढ़ती है।

भारत में एक मनोवैज्ञानिक का औसत वेतन 2 लाख रुपये से 3 लाख रुपये प्रति वर्ष है और पेस्केल(Payscale) के अनुसार, 1-4 साल के अनुभव वाला मनोवैज्ञानिक लगभग 317,617 रुपये कमा सकता है, जबकि 5-9 साल के अनुभव के साथ एक मध्य-कैरियर मनोवैज्ञानिक। लगभग ₹511,934 की उम्मीद कर सकते हैं। भारत में मनोवैज्ञानिक बनने के लिए सबसे लोकप्रिय पाठ्यक्रम हैं:

निष्कर्ष

आपने जाना की किस प्रकार आप में अपना करियर बना सकते है और इस करियर की भविष्य में क्या मांग होने वाली है।आज का लेख आपको कैसा लगा आप हमें कमेंट सेक्शन में जरूर बातये।

क्या Pyschology करियर का एक अच्छा विकल्प है ?

मनोविज्ञान अध्ययन का एक समृद्ध और पुरस्कृत पेशा है। एक मनोवैज्ञानिक का मुआवजा कई कारकों द्वारा निर्धारित किया जाता है, जिसमें उसकी शैक्षिक पृष्ठभूमि, विशेषज्ञता का क्षेत्र और क्षेत्र में वर्षों का अनुभव शामिल है। एम. फिल. और पीएच.डी.-प्रशिक्षित मनोवैज्ञानिक

क्या pyschologist एक डॉक्टर होता है ?

नहीं, एक pyschologist को डॉक्टर नहीं कहा जा सकता है क्योकि उनके पास MBBS की डिग्री नहीं होती है। इसलिए वे किसी भी प्रकार की दवाई नहीं दे सकते है।

क्या psychologist और psychiatrist दोनों एक ही होते है ?

जी नहीं दोनों ही अलग होते है। Psychologist डॉक्टर नहीं होते है लेकिन psychiatrist डॉक्टर होते है उनके पास MBBS की डिग्री होती है।

Psychologist की सैलरी कितनी होती है ?

सामान्यत भारत में की शुरुआती सैलरी 2.40 लाख प्रति वर्ष से लेकर 3.72 लाख रुपए प्रति वर्ष तक सैलरी होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.